Books

1.

कृष्णभावनामृत प्रबोधिनी

इस पुस्तक को पढें और अपना जीवन सुधारें। कृष्णभावनामृत को प्रारंभ करने के लिए आवश्यक ज्ञान। प्रतिदिन की जाने वाली क्रियाओं पर सरल मार्गदर्शन जो आपको कृष्ण के समीप लाएगा। व्यवहारिक सूचनाओं से ओतप्रोत ...

Binding:Paperback
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2010
ISBN:9789382716785
Language:हिन्दी

2.

कृष्णभावनामृत में ब्रह्मचर्य

इस पुस्तक को ब्रह्मïचारी जीवन की 'पथदर्शिका' कहा जा सकता है। यह पुस्तक विशेषतया उन अनेक निष्ठïवान युवकों के लिए है जो इस्कॉन में सम्मिलित हो रहे हैं, ...

Binding:Paperback
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2012
ISBN:81-902332-3-8
Language:हिन्दी

3.

पारंपरिक भारतीय जीवन की एक झलक

पारम्परिक जीवन की एक झलक भारतीय सभ्यता की जीवनशैली का विस्तृत विश्लेषण करने हेतु प्रयास नहीं है और न ही यह सलाह देने के लिए है कि किस प्रकार आज के इतने बदले हुए हालातों में इस सभ्यता को पुन: जागृत किया जाए। यह पुस्तक अतीत की जीवनशैली की एक झलक दिखलाती है। हम आशा करते हैं कि इसके द्वारा लोग नैतिकमूल्यों से रहित खतरनाक परिवेश में वैदिक संस्कृति के पुनरुत्थान के लिए प्रेरित होंगे।

Binding:Paperback
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2013
ISBN:978-93-82109-09-9
Language:हिन्दी

4.

प्रेमावतार श्री चैतन्य महाप्रभु

संपूर्ण विश्व में लाखों व्यक्ति भगवान् श्री चैतन्य के द्वारा प्रदत्त कृष्णभावनामृत के निर्मल पथ का अनुसरण कर रहे हैं। कृष्ण के पवित्र नामों का कीर्तन तथा परमानन्द में नृत्य करते हुए वे केवल कृष्णप्रेम पाने की अभिलाषा रखते हैं, तथा भौतिक भोग को तुच्छ समझते हैं। यह पुस्तक इस धरती को पवित्र...

Binding:Paperback
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2010
ISBN:978-81-902332-5-5
Language:हिन्दी

5.

भारतीय नवयुवकों को संदेश

धार्मिक, दार्शनिक, सामाजिक तथा ऐतिहासिक विश्लेषण। एक मूल्यवान पुस्तक, न केवल युवकों के लिए अपितु उन सभी के लिए जो भारत तथा विश्व के भविष्य में रुचि रखते हों।...

Binding:Paperback
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2010
Language:हिन्दी

6.

रामायण

रावण, नर-भक्षकों का बलवान राजा, अपनी कठोर तपस्याओं के द्वारा इतना शक्तिशाली बन गया था कि के नियंतागण भी उसके सामने टिक नहीं पाये। ब्रह्मा की अध्यक्षता में सभी देवताओं ने संसार को रावण से मुक्त करने की प्रार्थना की। भगवान् विष्णु ने उत्तर दिया, ''डरो नहीं, मैं शीघ्र ही धरती पर अवतरित होऊंगा और तुम्हारे शत्रु को मारने के बाद ११००० वर्षों तक पृथ्वी पर राज्य करुँगा।...

Binding:Hardcover
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2012
ISBN:81-902332-0-3
Language:हिन्दी

7.

श्रील प्रभुपाद के बारे में मेरे संस्मरण

एक इस्कोन संन्यासी, इस पृथ्वी को हाल में सुशोभित करनेवाले महानतम व्यक्ति से सम्बन्धित, संक्षिप्त किन्तु महत्वपूर्ण यादगार स्मरण करते है | साथ में: विरह में श्रील प्रभुपाद की सेवा पर विचार व्यास पूजा श्रद्धांजलियाँ

Binding:Hardcover
Publisher:Bhakti Vikas Trust
Edition:2015
ISBN:978-9382109280
Language:हिन्दी