परम भगवान् कौन?

Author: Gokula Candra Dāsa Language: हिन्दी (Hindi)
Publisher: Bhakti Vikas Trust Publication Year: 2017

ORDER

Please select your country:

INR 99.00Paperback3-4 weeks

Read this publication
(iPad, iPhone, iPod, Safari)
Loading...
You need to upgrade your Adobe Flash Player to read this publication.
Download it from Adobe

Order in bulk

If you would like to order more than 10 copies, then please fill in the form:

Number of copies*:
 
First Name*:
Last Name*:
 
Address*:
City*:
Country*:
State:
Zip/Postal Code*:
 
E-mail*:
Phone Number:
Note:
  * Required fields to be filled in
  
 

BOOK DESCRIPTION

भारत की संस्कृति, विशेषकर, दार्शनिक और आध्यात्मविद्या संबंधी चर्चा के एक असाधारण उन्नत लोकाचार से और जीवन के आध्यात्मिक लक्ष्य को प्राप्त करने की प्रतिबद्धता से चित्रित थी। यद्यपि आधुनिक भौतिकवाद ने भारत की परंपरा को अत्यधिक अशक्त बना दिया है, हिन्दुत्व (वर्तमान दिनों में वैदिक संस्कृति का आधुनिक अवशेष) अभी भी गुंजायमान है और आधुनिक विश्व में एक प्रभावशाली सांस्कृतिक प्रक्षेप पथ बन गया है। फिर भी, अपनी समृद्धि और जटिलता के कारण तथा वर्तमान युग में योग्य मार्गदर्शकों के अभाव के कारण, हिन्दुत्व प्रायः स्वयं उसके अनुयायियों द्वारा गलत समझा जाता है। विशेष रूप से यह प्रश्न—“कौन (यदि कोई है) हिन्दू देवालय के देवी देवताओं की भरमार में परम है?” एक जटिल पहेली लग सकता है।
 
परम भगवान् कौन? इस पहेली को सुलझाती है—नीरस विचारों से या शब्दों के मायाजाल से नहीं, जो कि आजकल के कई विख्यात गुरुओं की विशेषता हैं, बल्कि वैदिक ज्ञान, पुराण और अन्य संबंधित ग्रन्थों के मौलिक सूत्रों का स्पष्ट एवं सरल विश्लेषण करके।
 
अठारह वर्षों से भी अधिक, वैदिक ज्ञान का अभ्यास और प्रचार करते रहने के कारण, लेखक गोकुल चंद्र दास, इन महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टियों को प्रदान करने के लिए उत्कृष्ट रूप से योग्य हैं, जो महान ऋषियों द्वारा मनुष्य समाज के हित के लिए प्रदान की गई हैं। इस पुस्तक में लेखक ने उस विशाल ज्ञान का सार कृष्ण कृपामूर्ति श्री श्रीमद् ए. सी. भक्तिवेदान्त स्वामी प्रभुपाद की शिक्षाओं के अनुसार प्रस्तुत किया है, जो कि इस आधुनिक युग में वैदिक संस्कृति के एक अग्रणी प्रतिनिधि हैं। अतः मैं पाठकों से निवेदन करता हूँ कि वे इस पुस्तक का ध्यान से और गंभीरता से अनुशीलन करें, इस श्रद्धा के साथ कि इसके निष्कर्षों को समझने से हमें सर्वोच्च आध्यात्मिक साक्षात्कार का स्तर प्राप्त करने में सहायता प्राप्त होगी।
 
ॐ तत् सत्
भक्ति विकास स्वामी 
6.7.2011 (सेलम, तमिल नाडू, भारत)
 

ADDITIONAL INFORMATION


Full Title परम भगवान् कौन?
Binding Paperback
Pages 167
ISBN 9789382109389
Table of Contents
प्रस्तावना
भूमिका
 
1. वेद परम सत्य का प्रकाशन करते हैं
2. वेदों की शिक्षाएँ
3. पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान्
4. भगवान् कृष्ण की विभूतियाँ
5. भगवान् कृष्ण के गुण
6. भगवान् कृष्ण की शक्तियाँ
7. भगवान् कृष्ण के रूप
8. भगवान् कृष्ण की संगिनियाँ
9. भगवान् कृष्ण का धाम
10. भौतिक जगत
11. भगवान् कृष्ण के तटस्थ विस्तार (शिवजी)
12. भौतिक ब्रह्माण्ड
13. देवता भगवान् कृष्ण के परम स्थान को स्वीकार करते हैं
14. रास लीला
15. सारांश
16. परम भगवान् का साक्षात्कार कैसे करें
17. निष्कर्ष
18. परिशिष्ट
 
देवताओं की पूजा पर श्रील प्रभुपाद के उद्धरण
श्रील प्रभुपाद के विषय में
लेखक के विषय में
आभार